आपकी ये चीज़ भी आपके पति के लिए ला सकती है संकट और कर्ज

दोस्तों क्या आप जानते है जो आभूषण महिला धारण करती है खासकर बिछिया, यह भी आपके पति को गरीब बना सकती है या फिर आपके पति के जीवन में संकट ला सकती है. परन्तु कौन सी वह परिस्थिति है जो इन सभी का कारण बनती है उसके लिए आप इस वीडियो को अंत तक जरूर देखे. शगुन शास्त्र में सोने एवं चांदी से जुड़े अनेक ऐसी बात बताई गई है जिनके बारे में सभी को जानना बहुत ही जरूरी है. क्योकि सोना एवं चांदी सभी का प्रिय होता है . ज्योतिष शास्त्र के अनुसार सोने के गहने का खोना और मिलना दोनों ही अपशगुन का कारण होते है. सोने का कोई गहना यदि आपको मिलता है तो उसे ना ले. क्योकि यह आपके जीवन में कहि ना कहि गरीबी का कारण बनता है. दरसल सोना गुरु ग्रह से संबंधित होता है इसलिए सोने का गुम होना या इसका मिलना गुरु ग्रह के प्रभाव को घटाता या बढ़ाता है.

वैसे तो आभूषण सभी लोग पहनते है खासकर महिलाये आभूषणों को सबसे ज्यादा धारण करती है इसलिए गुरु ग्रह सबसे ज्यादा महिलाओ को ही प्रभावित करता है. गुरु ग्रह की वजह से ही उनका दाम्पत्य जीवन कैसा रहेगा, पुत्र विर्धि कैसी रहेगी , या उनके जीवन में पुत्र पौत्र की जो सौभाग्य उन्हें है प्राप्त होंगे या नहीं ये सभी चीज़े गुरु ग्रह के प्रभाव पर निर्भर करता है. यदि किसी के कान का घना यानि जैसे की ईयरिंग होते है जो की गुम जाते है तो उन्हें कही से बुरी खबर मिलती ही मिलती है निकतम भविष्य में. क्योकि कान जो है वह भी कभी महत्व रखता है. आपने देखा होगा की काफी महिलाये बहुत से कान छिदवा के रखती है और कानो में उनके कोई न कोई आभूषण जरूर होता है. परन्तु यदि वह खो जाए खासकर सोने का आभूषण यदि खो जाए तो परिवार से संबंधित कोई बुरी खबर उन्हें मिलती है. इसलिए यदि आपके कान का कोई आभूषण खोता है तो उसे ढूढ़ने का प्रयास जरूर करे. वही अगर नाक की जो नथ यानि की लॉन्ग होती है, वो अगर खो जाती है सोने की या चांदी की तो आप पर अपमान का छाया आने लगता है. क्योकि नाक का जो संबंध होता है वह आपके सीधे सीधे बुध ग्रह से होता है.

क्योकि लाल किताब में भी बताया गया है की यदि आपको दिमाग से संबंधित समस्या आती है, जैसे याद रखने में कोई परेशानी अथवा व्यापार में आपका मन नहीं लग रहा है जिस वजह से नुकसान हो रहा है या बुद्धि भ्र्ष्ट हो चुकी है तो इन स्थिति में व्यक्ति नाक छिदवाले तो उसे शुभ परिणाम प्राप्त होने लगते है. ऐसे में यदि स्त्रियों के नाके की लॉन्ग या नाथ खो जाती है तो तब बुध अपना बुरा प्रभाव उन्हें देने लगता है. पुराने जमाने से ही बुध और गुरु ग्रह के प्रभाव को समझते हुए उनके हिसाब से ही महिलाये के साथ ही पुरुषो के शरीर के अंग जैसे कान छेड़े जाते थे. अब अगर आप सर का गहना देखे जैसे मांगटीका होता है अगर वह कही गुम जाता है तो आपके जीवन में कही न कही धन से संबंधित परेशानी आपको झेलनी पड़ती है और सबसे ज्यादा परेशानी आपको जो झेलनी पड़ सकती है वह है कर्ज से संबंधित. इसके साथ ही मानसिक परेशानिया भी आपको घेरने लगती है. अगर आपके गले का हार या मंगलसूत्र या गले की चैन अथवा लॉकेट गुम जाए तो आपके ऐश्वर्य में कमी आने लगती है. ऐश्वर्य जो आपने समाज में कमाया था, इज्जत उन सब में कमी आने लगती है. अगर बाजूबंद क्योकि पुराने जमाने की महिलाये बाजूबंद लगातार पहन के रखती थी, इन्हे वह हमेसा पहन के रखती थी अब जो है ये चीज़े नहीं देख्नते को मिलती है परन्तु शगुन शास्त्र या ज्योतिष शास्त्र जो है हमारे बहुत पुराने समय से चला आ रहा है. तो उसमे यह वर्णन बिलकुल साफ़ ढंग से देखने को मिलता है की बाजूबंद जो आपका खो जाता है तो पैसे से जुडी समस्या आपको आती है. खास तोर पर यह किसी दुल्हन का गुम जाता है तो जैसे नवविवाहिता का गुम जाता है तो उसके पति के जीवन में धन के आगमन में कष्ट आने लगता है. तथा परिवार में भी धन का कष्ट रहता है. अगर आपके हाथो में धारण किये गए कंगन अथवा चुंडी आपके हाथ से खो जाती है तो भी यह आपके सुहाग के नौकरी अथवा उसके व्यापार में कष्ट उतपन्न करती है.

वही किसी शुभ स्थिति में आप किसी से कंगन लेते हो तो यह आपके जीवन में खुसिया एवं धन का आगमन करता है. अगर सोने या चांदी की आपकी अंगूठी खो जाती है या उसे कोई चोरी कर लेता है तो निकतम भविष्य में आपको स्वास्थ्य से संबंधित परेशानिया उठानी पड़ती है.यह इशारा होता है की आपके जीवन में कोई बिमारी आने वाली है. तो अगर आपकी कभी अंगूठी खो जाए तो उसे ढूढ़ने की कोशिस करे की वह आखिर कहा खो गई है.

दोस्तों आप बात करते है पैरो के आभूषण की जिसमे सबसे मुख्य आते है पैरो की बिछिया तथा पायल. शास्त्रों में पायल की विशेषता बताते हुए यह कहा गया है की जिस घर में पैरो के पायल की आवाज होती है वहा सदैव माँ लक्ष्मी वास करती है. इसलिये घर की हर स्त्री को पैरो में पायल अवश्य ही पहनने चाहिए. इसके साथ ही आपके पति के भाग्य को मजबूत बंनाने के लिए स्त्री के पैरो की बिछिया भी काफी महत्वपूर्ण होती है
कहा जाता है बीछिया पहनने का हक केवल शादीशुदा औरंतों का ही होता है. इसे अविवाहित लड़कियां धारण नही करती हैं, कहा जाता है इसको हमेशा पहनने से महिलाओं का मासिक चक्र नियमित रुप से होता है.साथ ही गर्भधारण में भी किसी भी तरह की परेशानी नहीं आती है, लेकिन आप नहीं जानते होगे कि यदि महिलाएं अपने पैर के बिछियेे का सही तरह से अपयोग नहीं करती हैं तो वह अपने पति के बर्बादी का कारण भी बन सकती हैं.बता दे कि औरंतो की पैर की दूसरी अंगुली की तन्त्रिका का सीधा संबध गर्भाशय से होता है जो कि हृदय से होकर गुजरती है , आपने देखा होगा कि औरंते बिछिया केवल पैर के दाहिने तथा बायें पैर की दूसरी अंगुली में ही पहनती हैं, क्योंकि यह गर्भाशय को नियन्त्रित करेगी और गर्भाशय में सन्तुलित रक्तचाप द्वारा उसे स्वस्थ रखेगी।

कहा जाता है कि बिछिया के बिना हर सिंगार अधुरा रहता है,ज्योतिष अनुसार इसको पहनने का एक दूसरा कारण यहा है कि इसे पहनने से सूर्य और चांद्रमा का प्रतिक माना जाता है , सूर्य और चंद्र की कृर्पा आप पर बनी रहे इसीलिए भी महिलाएं बिछिया पहनती हैं,साथ ही ध्यान रखें कभी भी सोने का बिछिया पैरों में नहीं पहनना चाहिए, हमेशा चांदी का बिछिया ही पैरों में पहने.बिछिया पहनते समय ध्यान रखें कि यह कभी भी आपकी पैर की ऊगली में से खोने नहीं चाहिए, और साथ ही अपनी पहने हुए बिछये किसी ओर को उतार कर नहीं देने चाहिए.
क्योंकि ऐसे करने से आपके पति बिमार पड़ सकते है. परेशानियां दिन पर दिन बढ़ने लगती हैं, पति भारी कर्ज भी हो सकता है. तो दोस्तों यदि आप की भी आभूषणों से जुडी कोई शंका हो तो आप हमे कमेंट बॉक्स में बता सकते है. हम उसका जवाब जरूर देंगे अभी के लिए धन्यवाद.