भारत के इस राज्य में साक्षात प्रकट हुए बजरंगबली , और फिर जो हुआ

संकट तें हनुमान छुड़ावै। मन क्रम बचन ध्यान जो लावै।। यह चौपाई तो सबने हनुमान चालीसा में पढ़ी व सुनी ही है , जिसका अर्थ है की ,
मन में मात्र बजरंगबली को याद करने से ही हर संकट और परेशानी दूर हो जाती है ,वह सदा ही अपने भक्तो के साथ रहते है।  इस चोपाई का जिवंत उद्धरण देखने को मिलता है हमें इस घटना को जानकार।  

यह घटना है राजस्थान के उदयपुर  शहर की , जहाँ सुमित नाम के बजरंगबली के असीम भक्त रहते है। सुमित का विवाह 8 वर्ष पूर्व हुआ था ,  सुमित के बहुत से प्रयत्नों के बाद भी उन्हें संतान प्राप्ति नहीं हुई थी।  सुमित  और उसकी पत्नी ने कई बड़े बड़े डॉक्टरों से परामर्श किया , मंदिर में मन्नत भी मांगी परन्तु कुछ नहीं हुआ।  अथक प्रयासों के बाद भी कुछ नहीं हुआ तब दोनों ने हार मान कर संतान प्राप्ति की उम्मीद ही छोड़ दी।

 दोनों निराश रहने लगे।  तब एक दिन  जब वह मंदिर से लौट रहे थे तब सुमित  और उनकी पत्नी को एक साधु से मार्ग में मिले जिन्हे दोनों  ने अपनी समस्या बताई जिस पर साधु ने समाधान  दिया की २१ मंगलवार का उपवास करो और बजरंगबली को सिन्दूर को चोला चढ़ा कर हनुमान जी की उपासना करो तुम्हे संतान प्राप्ति हो जाएगी।

 यह सुन कर सुमित  व उसकी पत्नी में एक नयी आशा का संचार हुआ एवं सुमित  ने साधु  द्वारा बताये उपाय अनुसार पूजा विधि शुरू कर दी।  धीरे धीरे समय गुज़रता गया और २१ वे मँगवालवार को ही सुमित  की पत्नी गर्ववती हो गयी दोनों ही बेहद खुश थे , प्रतिदिन हनुमान जी की उपासना उनका नियम बन गया।  9 माह बाद उन्हें एक बड़ी सुन्दर पुत्री की प्राप्ति हुई पूरे परिवार के बीच ख़ुशी की लहर दौड़ गयी।

सुमित  व उसकी पत्नी ने हनुमान जी को बहुत धन्यवाद  अर्पित कर भव्य राम कथा का भी आयोजन  करवाया।  सभी परिवारजन उस बच्ची के साथ दिन भर खेला करते थे सब कुछ  सुखमय व्यतीत  हो रहा था। तब एक दिन सुमित  की माँ अपनी पोत्री  को घर की बालकनी में खिलाने लेजा रही थी परन्तु वहाँ पड़े पानी पर उनकी नज़र नहीं पढ़ी और उनका पैर पानी पर पड़ा जिसके कारण बची गोद से छटक कर पहली  मंजिल से नीचे गिर गयी , बच्ची के गिरते ही केशव की माँ मुँह से आवाज निकली बजरंगबली रक्षा करो।

बच्ची  नीचे गिरते हुए बिजली के तारो से टकरा कर नीचे ज़मीन पर जा गिर गयी।  दौड़े दौड़े सभी बच्ची को देखने नीचे पहुंचे तो सभी ने देखा की बच्ची ज़मीन पर लेटी हुई ऐसे खेल रही थी जैसे वह कठोर ज़मीन पर नहीं किसी मखमल के बिस्तर पर गिरी हो बच्ची को किसी प्रकार की कोई चोट नहीं आयी।  यह घटना देख आस पास मौजूद सभी लोग दंग रह गए। परन्तु सभी का एक ही सवाल था बच्ची को कुछ नहीं हुआ ऐसा नहीं हुआ यह कैसे हो सकता है , इस पर सुमित  की माँ ने कहा की इस बच्ची के माता पिता व बच्ची तीनो पर बजरंग बलि की असीम कृपा है और बजरंगबली ने ही इस बच्ची की प्राण रक्षा की है और इसके ऊपर से सारे संकट दूर किये है।  इस घटना के बाद बच्ची के माता पिता और सभी का विश्वास बजरंगबली के प्रति अटूट हो गया।   

NeerajCC
We will be happy to hear your thoughts

Leave a reply

Prabhubhakti
Logo
Enable registration in settings - general
Shopping cart