Shardiya Navratri 2022 शारदीय नवरात्री जानिए तारीख कब है महाष्टमी और नवमी

 हिन्दू पंचांग के अनुसार इस साल शारदीय नवरात्री की शुरुवात 26 सितम्बर से लेकर 5 अक्टूबर तक मनाई जाएगी. अश्विन मास के अमावस्या के साथ पितृपक्ष खत्म हो जायेगा और इसी के साथ नवरात्री की शुरुवात हो जाएगी. नवरात्री को नवदुर्गा के नामसे भी जाना जाता है.  नवरात्री में 9 दिन 9 अलग अलग देवियो की पूजा की जाती है और १० वे दिन दशमी बनाई जाती है . तिथि के घटने बढ़ने के अनुसार नवरात्री में  अष्टमी और नवमी भी आगे पीछे होती रहती है।

शारदीय नवरात्रि का महत्व [Shardiya navratri 2022 importance ]

 नवरात्र का त्योहार हिंदू धर्म के सभी त्योहारों से भिन्न है क्योंकि  नवरात्र का पर्व नारी शक्ति का प्रतीक देवी दुर्गा का समर्पित है। हिन्दू शास्त्रों में कहा गया है या देवी सर्वभुतेषु चेतनेत्यभिधीयतेयानी “सभी जीव जंतुओं में चेतना के रूप में ही माँ/ देवी तुम स्थित हो”.

ऐसे में  नवरात्र का यह पर्व हमें इस बात का एहसास दिलाता है की हर बुराई पर अच्छाई की जीत होती है।  धार्मिक मान्यताओं के अनुसार इन्ही 9 दिनों में माँ दुर्गा धरती पर आती है और धरती को उनका मायका कहा जाता है और इसी आगमन में नवरात्री को बहुत धूम धाम से मान्य जाता है .

नवरात्री में कैसे करते है माता चौकी की स्थापना / देवी पूजन की सही और सही विधि

नवरात्री की पूजा पूरी विधि विधान से की जाये तो माँ दुर्गा अत्यंत प्रसन्न होती है. नवरात्री के ९ दिनों में इन खास बातो का हमेशा रखे ध्यान – १- नवरात्रि के पहले दिन ९ दिनों के उपवास का स्नाकल्प ले .

और कलश स्थापना करने के बाद देवी के इस स्वरूप की पूजा करें। सुबह सूर्योदय से पूर्व उठकर स्नान कर साफ वस्त्र धारण करें.और पूजा स्थल पर लाल कपडा रखे। हो सके तो किसी ब्रह्मण को इसके लिए बुलाये।

२- इन दिनों घर की सफाई का पूरी तरह ध्यान रखे .पुरे घर में गंगाजल और गोमूत्र का छिड़काव करे . उसके बाद फूल , अक्षत , चन्दन , कुमकुम, रोली से और र मिठाई का भोग लगाकर   देवी माँ क पूजा आरती  करे . और घी का दीपक जलाये ध्यान रखे ९ दिनों तक ये दीपक बुझ न पाए।   इसके पश्चात दुर्गा सप्तशती का पाठ, दुर्गा स्तुति करें। और इस मंत्र के उच्चारण करे

 या देवी सर्वभूतेषु शक्तिरूपेण संस्थिता।

नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः॥

देवी के  पाठ स्तुति करने के बाद दुर्गाजी की आरती करके प्रसाद वितरित करें। – नवरात्री के ९ दिन और ९ देवी के रूप , और उनके बीज मंत्र  /

शुभ रंग

 नौ दिनों तक Devi Durga के अलग-अलग रूपों की पूजा होती है .नौ दिनों तक Devi दुर्गा 9  अलग-अलग रूपों की पूजा होती है, देवी के नौ रूप अलग अलग शक्तियों को दर्शाते हैं. आईये जानते है देवी के 9 रूप उनके मंत्र और खास रंग

  नवरात्रो मे क्या करे और क्या न करे

क्या करे :-

-नवरात्रि पर अगर आप 9 दिन के लिए व्रत न रख सकें तो नवरात्रि के पहले और अंतिम दिन व्रत रखें और मां की पूजा-अर्चना करें. मान्‍यता है कि इससे जीवन में सफलता मिलती है.

-इन 9 दिनों में घर की साफ-सफाई का पूरा ध्‍यान रखना चाहिए.

-नवरात्रि पर कन्या भोजन जरूर कराएं. मान्‍यता है कि इससे घर में अन्न की कमी नहीं होती.

-धार्मिक मान्यताओं के अनुसार नवरात्रि में मांसाहारी भोजन नहीं करना चाहिए. साथ ही लहसुन, प्याज और मदिरा के सेवन से भी दूरी बनाकर रखें.

-नवरात्रि पर पक्षियों के लिए दाना पानी की व्यवस्था करनी चाहिए. -घर आए अतिथि और भिक्षा के लिए आए व्‍यक्ति को आदर के

साथ भोजन कराएं. इससे मां भगवती प्रसन्न होती हैं और भक्‍तों पर कृपा करती हैं

नवरात्र में क्या करे क्या न करे

-व्रत रखने वालों को दाढ़ी-मूंछ और बाल नहीं कटवाने चाहिए।

-नौ दिनों तक नाखून नहीं काटने चाहिए।

-अगर अखंड ज्योति जला रहे हैं तो इन दिनों घर खाली छोड़कर नहीं जाएं।

-खाने में प्याज, लहसुन और तामसिक न खाएं।

-नवरात्रि के दौरान व्रत करने वालों को दिन में नहीं सोना चाहिए।

– नवरात्रि में चमड़े से बनी किसी भी चीज का प्रयोग न करें।

-नवरात्रि के उपवास में अनाज और नमक का सेवन नहीं करना चाहिए। हालांकि कई लोग व्रत में सेंधा नमक का सेवन करते हैं।

 इन 9 दिनों में  फलाहार भोजन  करें . और  सुबह पूजा अर्चणा करने के बाद दिन भर माँ देवी का ध्यान करे और शाम में पूजा अर्चना करने के बाद  फलाहार करे या एक वक़्त का भोजन भी कर सकते है . ध्यान रखे इन दिनों तामसिक भोजन न करें यानि इन 9 दिनों में प्याज , लहसुन और मांस का सेवन नहीं कारण चाहिए .

नवरात्री से जुडी पौराणिक कथा / नवरात्री का इतिहास

Navratri Saal me do Baar शारदीय नवरात्रि असत्य पर सत्य की जीत का प्रतीक माना जाता है. इससे जुड़ा इतिहास  के अनुसार मां दुर्गा ने महिषासुर नाम के राक्षस का वध किया था . जिसने ब्रह्मा जी को अपने तपस्या से प्रसन्न किया था. महिषासुर ने ब्रह्मा जी से वरदान मांगा था की उसे कोई देव दानव और राक्षस उसका वध ना कर सके।  और इसलिए ब्रह्मा जी ने इस एक शर्त पर महिसासुर को अमरता का वरदान दिया था . की उसका वध केवल एक स्त्री कर सकती है।  अमरता  वरदान के कारणवश महिसासुर ने तीनो लोक – पृथ्वी , स्वर्ग ,नरक पर हमला किया।  और महिसासुर से भयभीत होकर सभी देवताओ ने ब्रह्मा , विष्णु , महेश से मदद की प्रार्थना की।

महिषासुर का अंत

उन सभी असहाय देवताओ को देख के भगवान् विष्णु ने महिला बनाने  का निर्यण लिया चुकि महिसासुर का वध एक महिला ही कर कर सकती थी . तब भगवान शिव और भगवान ब्रह्मा ने महिषासुर के विनाश  करने के लिए भगवान विष्णु द्वारा बनाई गई महिला में अपनी सारी शक्तियां एक साथ रख दीं। जिससे नवदुर्गा का रूप लिया .तब भगवान शिव और भगवान ब्रह्मा ने महिषासुर को नष्ट करने के लिए भगवान विष्णु द्वारा बनाई गई महिला में अपनी सारी शक्तियां एक साथ रख दीं। और उन्होंने देवी दुर्गा का जन्म हुवा। मां दुर्गा और महिषासुर के बीच नौ दिनों तक घमासान युद्ध चला और दसवे दिन मां दुर्गा ने महिषासुर का वध किया था.

और माना जाता है की देवी दुर्गा माता पार्वती का अवतार है जो शिव जी की पत्नी है।

नवरात्रि मे कन्या पूजन की विधि / कन्या पूजन कैसे करे ?

मां भवानी कन्याओं के रूप में आशीर्वाद देने आपके घर आती हैं . कन्या पूजन करके नवरात्रि व्रत का विधिवत पारण किया जाता है। जो भक्त नवरात्र में कन्या पूजन करता है उस पर मां दुर्गा की विशेष कृपा बरसती है। कन्या पूजन अक्सर महाष्टमी और महानवमी तिथि पर किया जाता है।
* नवमी तिथि के दिन कन्या पूजन से पहले घर को स्वच्छ कर लेना जरूरी है पहले घर का माहौल साफ-सुथरा कल लेना चाहिए तभी कन्या पूजन का फल मिलता है।
* कन्या पूजन में 9 कन्याओं के साथ एक बालक का पूजन करना उत्तम माना गया है। लेकिन अगर संभव नहीं हो तो कम से कम दो कन्याओं को जरूर भोजन कराएं।
* कन्याओं और बालक के पैर दूध या फिर पानी से अपने हाथों से साफ करें क्योंकि स्वयं देवी मां की सेवा मानी जाती है                        
* इसके बाद उनके पैर छूकर उनको साफ स्थान पर बैठाएं और फिर माथे पर अक्षत, फूल, कुमकुम का तिलक लगाएं।
*  कन्याओं को खीर-पूड़ी, हलवा-चना इत्यादि खिलाएं और इसके बाद उनको दान में रूमाल, लाल चुनरी, फल, खिलौने आदि भेंट स्वरूप दें और उनके चरण छूकर आशीर्वाद लें। इसके बाद उनको खुशी-खुशी विदा करें।
* इस प्रकार पूजा करने के बाद दुर्गा प्रतिमा का विसर्जन कर देना चाहिए, लेकिन जवारों को फेंकना नहीं चाहिए। उसको परिवार में बांटकर सेवन करना चाहिए।

FAQs

नवरात्री कब से शुरू हो रहे है /When is it Nvaratri Starting in 2022?

इस साल नवरात्री की शुरुवात 26 sepetember से हो रही है जो     4 october तक है और 5 अक्टूबर को विजयदशमी मनाई जाएगी .
नवरात्रि करने से क्या लाभ होता है?/ What are the Benefits of Navratri ?
नवरात्री में रखे गए व्रत का कई गुना ज्यादा फल मिलता है .  माँ दुर्गा  की उन पर विशेष कृपा बनी रहती है .व्यकित की इन दिनों भगवान के प्रति श्रद्धा और आस्था बनी रहती है नवरात्री के ये 9 दिन बहुत पावन  होते है . इसके साथ ही सुख है समृद्धि आती है

नवरात्रि 2022 अष्टमी कब है?/  When is Navratri 2022 Ashtmi?

राम नवमी के एक दिन पहले अष्टमी मनाई जाती है. इस बार शारदीय नवरात्री २६ सितम्बर से ४ अक्टूबर तक है तो इस साल नवरात्री  पर एक भी तिथि का क्षय न होने के कारण नवरात्रि नौ दिनों की पड़ रही है। जिसके कारण इस साल अष्टमी ३ अक्टूबर  को मनाई जाएगी।
शारदीय नवरात्रि क्यों मनाया जाता है?/ Why is  celebrated Shardiya Navratri ?
देवी दुर्गा ने आश्विन के महीने में महिसासुर के साथ 9 दिनों तक लगातार युद्ध किया और दसवे दिन  उसका वध किया.  इसलिए इस पर्व को 9 दिनों तक मनाया जाता है.
नवरात्रि का मतलब क्या होता है? / What is the meaning of Navratri ?

नवरात्रि एक संस्कृत शब्द है, जिसका अर्थ होता है ‘नौ रातें’। इन नौ रातों और दस दिनों के दौरान,शक्ति / देवी के नौ रूपों की पूजा की जाती है। दसवाँ दिन दशहरा के नाम से प्रसिद्ध है। नवरात्रि वर्ष में चार बार आता है।

    नवरात्रि साल में 2 बार क्यों मनाते हैं? / Why Navratri is celebrated twice a year?
धार्मिक मान्यता के अनुसार श्रीराम ने रावण के साथ युद्ध पर जाने से पूर्व अपनी विजय की मनोकामना मानते हुए मां के आशीर्वाद लेने के लिए विशाल पूजा का आयोजन करवाया था। कहा जाता है कि राम देवी के आर्शीवाद के लिए इतना इतंजार नहीं करना चाहते थे और तब से ही प्रतिवर्ष दो बार नवरात्रि का आयोजन होता है।

      क्या है नवरात्रि का वैज्ञानिक महत्व? / What is the scientific significance of Navratri?
नवरात्र मनाने का वैज्ञानिक महत्व भी है। वर्ष के दोनों प्रमुख नवरात्र प्रायः ऋतु संधिकाल में या दो ऋतुओं के सम्मिलिन में मनाए जाते हैं। जब ऋतुओं का सम्मिलन होता है तो आमतौर पर शरीर में वात, पित्त, कफ का समायोजन घट बढ़ जाता है। इससे रोग प्रतिरोध क्षमता कम हो जाती है।

   नवरात्रों में क्या क्या खा सकते हैं? / What can eat during Navratras?

Navratri Vrat में लौकी, आलू ,शकरकंद ,कद्दू, गाजर, कच्चा केला ,खीरा और टमाटर का सेवन कर सकते हैं l. व्रत में आप दही का इस्तेमाल भी कर सकते हैं l आप अपने स्वाद के अनुसार दही को मीठी वा नमकीन इस्तेमाल कर सकते हैं .आप अधिक से अधिक फलों का सेवन कर सकते है . यदि आपने Navratri उपवास रखे है ,तो आप सिर्फ अरारोट का आटा ,साबूदाना आटा , कूटू का आटा, राजगिरा आटा ,समक के चावल या फिर सिंघाड़े के आटे का ही इस्तेमाल करें l

 

navratan ring

Click to buy Navratan Ring https://prabhubhakti.in/spriritual-ring/navratna-ring-heavy/

 

Prabhu Bhakti
We will be happy to hear your thoughts

Leave a reply

Prabhubhakti
Logo
Enable registration in settings - general
Shopping cart