- 59%

Buy Original Gandaki River Vishnu Shaligram(शालिग्राम) Stone Online

  • इस भव्य पत्थर की पूजा करके घर और दफ्तर में महालक्ष्मी की प्राप्ति होती है और घर वैभव से भर जाता है।
  • शालिग्राम की पूजा के लिए तुलसी का ही प्रयोग करें। ऐसा करने से व्यक्ति को शीघ्र ही भगवान की कृपा का लाभ मिलता है।
  • शालीग्राम और देवी तुलसी का विवाह करने पर सभी प्रकार के शत्रुता, पारिवारिक समस्याएं, पाप, संघर्ष, दुख, रोग आदि नष्ट हो जाते हैं।
  • मां तुलसी और शालिग्राम का विवाह समर्पण भाव से करने से वैसा ही पुण्य प्राप्त होता है जैसा कन्या दान करने से होता है।
  • इनकी पूजा करने से सभी प्रकार की शारीरिक, मानसिक और आर्थिक समस्याओं का समाधान होता है।
  • जिस घर में भगवान शालिग्राम की शिला स्थित होती है उसे तीर्थ के समान माना जाता है।
  • पूजा के समय भोग में अर्पित चरणामृत का सेवन करने से भक्त को चारों धामों का पुण्य फल प्राप्त होता है।
  • घर में प्रतिदिन इनकी पूजा करने से वास्तु दोष और नकारात्मक शक्तियों का नाश होता है।
  • कुंवारी लड़कियो को इसकी प्रतिदिन पूजा करने से मनपसंद वर मिलता है।

349.00

Hurry Up ! Only Few Hours Left.

  • 100% Original + FREE SHIPPING
  • Cash on Delivery Available
days
0
0
hours
0
0
minutes
0
0
seconds
0
0
SKU: prabhubhakti103 Category:

हमारे ज्योतिष शास्त्र में Shaligram Stone को सबसे पवित्र और महत्वपूर्ण माना गया है। हिंदू धर्म में, इस पवित्र देवता के आकार के पत्थर को भगवान विष्णु के रूप में देखा जाता है, जिसे सालग्राम शिला या शालिग्राम भगवान के नामो से पुकारा जाता है। यह देखने में सुन्दर काले चिकने पत्थर असल में गंडकि नदी के किनारे पाए जाते है जो कई हज़ार साल पुराने भी होते है। माना जाता है की यह स्वयं भगवान विष्णु के शरीर से उत्पन्न हुए थे। shaligram को हिन्दू धर्म में इतना पूजनीय माना जाता है की इसकी उपस्थिति के बिना कोई भी मन्दिर संपूर्ण नहीं माना जाता है।

Shaligram stone क्या होता है ?

Shaligram stone जीवाश्म का एक रूप है जिसे नेपाल की गंडकी नदी में खोजा जाता है। kali gandaki river shaligram पत्थरों के बीच में सुदर्शन चक्र की आकृति खुदी हुई होती है, जो इनकी सबसे खास विशेषता है। तैत्रीय उपनिषद के ब्रह्मसूत्र में आदि गुरु शंकराचार्य ने पवित्र शालीग्राम पत्थर का महत्व समझाया है। हमारे 18 पुराणों में से एक स्कंद पुराण में वैशाख महास्कंद का नौवां श्लोक कहता है, “शालिग्राम शिला यस्य गृहे तिष्टि मनदा।”

भगत घी रतवई भगते काली। वही नारद पुराण के प्रथम भाग के पहले श्लोक में कहा गया है कि जिसके घर में शालिग्राम भगवान वास करते हैं, कलियुग उनके घर में कोई भी विपत्ति, कलेश, पीड़ा, गरीबी, भुखमरी, बीमारी कभी भी प्रवेश नहीं कर सकती है, और यह भी कहा जाता है कि जिनके घर में shaligram ka stone होता हैं, वहां भूत, दैत्य, ग्रह दोष या कोई भी बाधा प्रवेश नहीं कर सकती है। गोमती चक्र, जो लक्ष्मी का एक प्रकार है, उसको शालिग्राम के साथ रखने से घर मे धन और वैभव बना रहता है। आप कभी भी shaligram online आसानी से अपने घर बैठे मंगवा सकते है, ध्यान रहे की यह original shaligram ही होना चाहिए अथवा आप इसके लाभ से वंचित हो सकते है।

original shaligram

शालीग्राम पत्थर के लाभ

  • विष्णु शालिग्राम (Vishnu Shaligram), विष्णु भगवान् का विग्रह रूप है जो एक अद्भुत पत्थर है जो अपने आस पास की नकारात्मक ऊर्जा को समाप्त कर देता है।
  • आप का स्वस्थ्य अच्छा नही रहता है या घर पर कोई बीमार रहता है तो यह Shaligram Stone आपके स्वस्थ्य के स्तर को सुधारने में भी अत्यंत महत्वपुर्ण भुमिका निभाता है।
  • आप कडी मेहनत करते है लेकिन उसके बाद भी आपको सफलता नहीं मिल रही है तो इस अद्भुत विष्णु शालिग्राम को अपने घर में जरुर स्थापित करें।
  • आपको लंबे समय से व्यवसाय में ज्यादा फायदा नही हो रहा है तो आप शालिग्राम को अपने घर के साथ साथ अपने ऑफिस में भी स्थापित करें नियम से पूजा करे।
  • आपका पैसा काफी समय से किसी के पास रुका या अटका हुआ है या कोई व्यक्ति आपके पैसे नही दे रहा है तो वह धन आपके पास जल्द वापस आ जायेगा।

शालीग्राम पत्थर की पूजा विधि

  • Shaligram Stone का पूजा-संस्कार करते समय आपको ऐसी दिशा में बैठना चाहिए जहां आपका चेहरा पूर्व या उत्तर-पूर्व की ओर हो।
  • पूजा करते समय शंख में गंगाजल भरकर उसमें शालिग्राम को स्नान कराएं।
  • शालिग्राम पर छिड़कने के लिए पानी से भरे स्टील कलश में कुछ दूब घास रखें।
  • अब शालिग्राम को पीपल के पत्ते पर रखें और शालिग्राम की दिशा में कपूर, अगरबत्ती और घी से दीपक जलाएं।
  • शालिग्राम पर चंदन का लेप लगाना याद रखें और उसके सामने तुलसी के कुछ ताजे हरे पत्ते रखें।
  • अपने मन में भगवान विष्णु का ध्यान करते हुए इस shaligram puja mantra का नौ बार जाप करें: “हरे कृष्ण, हरे कृष्ण, कृष्ण कृष्ण, हरे
  • फिर शालिग्राम पर दूध, फल या मिठाई का भोग लगाएं। कुछ नकद भेंट करें। इस प्रकार पूजा करने से भगवान हरि आपके कार्यों से प्रसन्न होते हैं और आप पर अपना आशीर्वाद देते हैं।
  • शालीग्राम के लाभ के लिए सिर्फ original shaligram online ही मंगवाए।
Shaligram 2
Buy Original Gandaki River Vishnu Shaligram(शालिग्राम) Stone Online
Buy Original Gandaki River Vishnu Shaligram(शालिग्राम) Stone Online

349.00

Prabhubhakti
Logo
Enable registration in settings - general
Shopping cart