बुद्धिहीन तनु जानिके, सुमिरौं पवन कुमार, बल बुद्धिविद्या देहु मोहिं,हरहु कलेश विकार||

इस कलयुग में जो सबसे अधिक जल्दी प्रसन्न होने वाले देव है वह है हनुमान जी. भगवान राम और माता सीता के आशीर्वाद से आज भी अजर अमर है. आज आपके लिए लेकर आए है हनुमान जी की एक ऐसी चीज जिसमे इतनी शक्ति है की कोई भी मुसीबत इसके सामने टिक नहीं पाती है और धीरे धीरे आपके जीवन की हर मुसीबत दूर हो जाती है. 

परन्तु क्या इसका सच में फायदा आपको होगा यह आपके लिए जानना पहले बहुत जरूरी है.

हमें हमारे पाठकों द्वारा सैकड़ों मैसेज आ रहे हैं जिन लोगो ने इसे धारण किया है और धारण करने से उनके जीवन में फिर से खुशिया आने लगी। पहले तो हमने विश्वास नहीं किया और इसे नजर अंदाज करने का फैसला किया, लेकिन इसके परिणाम बेहद आश्चर्यजनक थे और आज आपके लिए लेकर आये है हमारे एक पाठक सुरेश – (बिलासपुर, छत्तीसगढ़) की कहानी..

सुरेश बस्तौला जी एक सामान्य परिवार से है. बात करीब 6 साल पहले की है जब सुरेश जी किराये के मकान में रहते थे. अक्सर सुरेश जी और उनकी पत्नी के बीच में छोटी लड़ाईया हो जाया करती थी. दरअसल इसका कारण यह था की मकान के मालिक हमेशा कभी पानी के लिए तो कभी कोई छोटी मोटी बातो पर सुरेश जी की पत्नी को डाट दिया करते थे और फिर पत्नी सुरेश जी पर बरस पड़ती थी की आखिर आप अपना मकान क्यों नहीं लेते.

एक दिन सुरेश जी ने कुछ यह निश्चित किया की अब बहुत हुई मकान मालिक की झिक झिक और उन्हें हर हाल में अपना घर लेना ही है. सुरेश जी ने अपनी बीबी को यह बात बताई और बोला की कुछ तो मेरे पास सेविंग है कुछ तुम्हे अपने जेवर गिरवी रखने होंगे. अपना मकान होने के बाद में तुम्हारे जेवर छुड़वा लूंगा. सुरेश जी की पत्नी भी अपना घर चाहती थी इसलिए वह इस बात के लिए राजी हो गई.

सुरेश जी जमीन खरीदने के लिए एक प्रॉपर्टी डीलर के पास गए और उन्हें एक जमीन पसंद भी आ गयी जिसका सौदा 14 लाख में तय हुआ. सुरेश ने इकरानामा कराते हुए साढे़ 6 लाख रुपये बतौर एडवांस दे दिए। 

वो कहते है ना विनाश काले विपरीत बुद्धि. बगैर किसी जांच के उन्होंने उस प्रॉपर्टी डीलर पर भरोसा किया परन्तु उस प्रापर्टी डीलर ने सुरेश जी के साथ धोखा कर दिया और वह प्रॉपर्टी डीलर पैसे लेकर फरार हो गया.

दोस्तों जब मेहनत की कमाई जाती है तो बहुत दुःख होता है. सुरेश ने पुलिस में रिपोर्ट तो करा दी पर इस जमाने में केवल पैसो वालो को अधिक तवज्जो दी जाती है. 

सुरेश कुछ दिन भटकते रहे कभी थाने में तो कभी उस प्रॉपर्टी डीलर की दूकान में. सबसे ज्यादा दुःख तो उन्हें अपनी पत्नी के लिए हो रहा था.

एक दिन सुरेश जी हमेशा की तरह इंटरनेट चला रहे थे और उन्हें हनुमान कवच का एक पोस्ट दिखा जिसमे हमने हनुमान जी की भक्ति की महिमा और उनके शक्तिशाली कवच के बारे में बताया था जिसे देख वो काफी प्रभावित हुए. सुरेश जी को लगा की शायद हो सकता है की भगवान् का यही संकेत है और उन्होंने हनुमान जी का कवच लाकेट मंगा लिया और मंगलवार के दिन विधि पूर्वक पूजा पाठ कर हनुमान जी का कवच अपने गले में धारण कर लिया और हनुमान जी के मूल मंत्र का जाप करना शुरू कर दिया.

सुरेश जी को हनुमान जी की भक्ति पर यकीन था और कहते है ना भक्ति में बहुत शक्ति होती है. कवच का असर केवल हफ्ते भर में ही हुआ सुरेश जी के साथ हुआ. दरअसल सुरेश जी के इलाके में एक नए डीएम की नियुक्ति हुई. वे काफी ईमानदार और अपने ड्यूटी को पूरी निष्पक्ष्ता से निभाने वाले इंसान थे. जब डीएम के सामने सुरेश जी का केस आया तथा उन्हें पता चला की वह प्रॉपर्टी डीलर सुरेश जी की तरह ही उस शहर के अनेक लोगो को बेवकूफ बना चुका है तो उन्होंने तुरंत करवाई आरम्भ कराई और अपने नीचे के अफसरों को डाट लगाई .

आनन फानन में पुलिस ने उस प्रॉपर्टी डीलर को पकड़ लिए गया तथा सुरेश जी को उसके द्वारा ठगी हुई अपनी रकम वापस मिली. अब सुरेश जी ने जांच पड़ताल कर ही एक जमीन ली और बहुत जल्दी वहा घर भी बना लिया. आज सुरेश बस्तौला जी अपनी बीबी के साथ खुद के मकान में रहते है.

दोस्तों कुछ लोगो को यह कहानी बिलकुल झूठी या अन्धविश्वास लगेगी लेकिन जब भगवान् की कृपा बरसती है तो उसके सामने विज्ञान भी फेल हो जाता है और कृपा किसी भी माध्यम या रूप में हो सकती है. आज आप इस कहानी को पढ़ रहे है हो सकता है की यही आपके लिए भगवान् का संकेत हो.

ऐसी है हनुमान जी तथा उनके कवच की महिमा. जो भी भक्त इसे अपने गले में धारण करता है हनुमान जी स्वयं उसकी रक्षा करते है. हनुमान कवच को धारण करने का सबसे उत्तम दिन है मंगलवार. मंगलवार के दिन आपको सुबह जल्दी उठ स्नान इत्यादि करने के बाद हनुमान कवच को हनुमान जी फोटो या प्रतिमा के पास रखना है. थोड़ा सा गंगा जल आप हनुमान कवच में छिड़क ले. अब धुप बत्ती जलाकर हनुमान चालीसा का आपको एक पाठ करना है. अब आपको हनुमान कवच धारण करना है और हनुमान जी का यह मूल मन्त्र केवल 11 बार आपको बोलना है. 

ॐ श्री हनुमंते नमः

राम कथा सुनवे को रसिया और राम काज बिन कहां विश्रामा ||

बस यही हनुमान जी का मूलमंत्र था इससे ज्यादा उन्होंने भगवान राम जी से कुछ नहीं माँगा. 11 बार इस मन्त्र को बोलने से यह कवच सिद्ध हो जाएगा. आपको बस अब इतना करना है जब भी आप कोई इंटरव्यू दो या कोई महत्वपूर्ण परीक्षा दे रहे हो तो इस लॉकेट को अपने माथे पर लगाते हुए हनुमान जी का मूल मन्त्र के 1 बार बोले दे. यह आप में एक अदुभुत शक्ति उतपन्न कर देगा और आप अपने हर कार्य में सफलता पाओगे. कोई भी काम आपको करना हो तो बस यही क्रिया करनी है की हनुमान कवच को माथे पर लगाते हुए हनुमान जी को मूल मन्त्र आप बोले और आपके हर कार्य सिद्ध हो जायेंगे.

हनुमान कवच को हमारे ज्ञानी पंडितो द्वारा ऋषिकेश नगरी में माँ गंगा के पावन तट पर सिद्ध किया गया है. हनुमान कवच अष्ट धातु से निर्मित होता है लोगो की जितनी भी नेगटिव एनर्जी, बुरी नज़र आप होती है उस सभी को यह आप तक पहुंचने से पहले ही नष्ट कर देता है. और इस कवच में पूरी की पूरी हनुमान चालीसा समाहित है. जब आप हनुमान कवच पहनते है तो 24 घंटे हनुमान चालीसा आपके साथ रहती है. ऐसे में कोई दुश्मन आपको नुक्सान तो क्या छू भी नहीं सकता है.

हनुमान कवच पहने से आपके कुंडली के ग्रह नक्षत्र बिगड़े हुए है या कोई दोष है तो उससे भी आपको मुक्ति मिलती है क्योकि सभी नो ग्रह हनुमान जी के अधीन है तथा खुद शनि देव ने हनुमान जी को वरदान दिया था जिस भक्त पर आपकी छत्र छाया होती उस भक्त पर मेरा कभी कोई दोष नहीं होगा. यदि आपकी शादी विवाह में बाँधा आ रही है अथवा आप अपने प्यार को पाना चाहते है तो इन कार्यो में भी हनुमान कवच बहुत ही असरदार है.

 शस्त्रो के अनुसार हनुमान कवच मंत्रो के माध्यम से ही भगवान श्री राम रावण जैसे महाशक्तिशाली का वध कर पाए थे.

Price - 1250.00 Rs (cash on Delivery)

अगर आपको भी ऐसा लग रहा है की आप समस्याओ से घिरे हुए है तो एक बार हनुमान कवाच को जरूर धारण करे..हमारी संस्था द्वारा आर्डर करते समय आपसे आपका नाम और गोत्र किया जायेगा जिसके बाद आपके नाम से इसको सिद्ध करने के पश्चात आप तक इसको भेजा जाएगा.

ऋषिकेश – माँ गंगा के पावन तट पर हनुमान कवच को सिद्ध किया गया है . क्या आपके लिए यह फायदेमंद होगा या नहीं, इसके लिए अपना नाम दीजिये. हमारे आचार्य जी की द्वारा आपसे संपर्क किया जायेगा |

जानकारी लेने के लिए संपर्क करे